On loving whom does a man’s mind become silent ?

On loving someone, the mind of a person becomes peaceful, everyone has their own thinking in this world, but is our thinking right? How can our mind be relaxed? But is it okay to love all these things, is it not our mind has been calmed by these things?

Because the hunger of the human being is increased by the things and wealth of the world, because it is never happy with the things we have in our mind and always demands what we do not have and then get these things To run. What we had to calm down in order to get them and become more disturbed
Then we love my friends, we roam with them day and night and keep doing mine and one day they quarrel with them, then where is that love, the mind becomes even more disturbed.
Then we resort to alcohol and intoxication etc. to calm the mind, does it calm our mind or not?
Because a man loses his senses after getting drunk, how will peace come again, then we love siblings, from parents to wife, is this love not true or not, this love is also not true, our family is our responsibility, if we are attached to our responsibilities Ok but that too is not love.
If you want to be loved in the world then do what you always have and that love is only and only with God, which makes our mind completely calm, because the things which are to be finished, which will cause our mind to become more disturbed by such things. What is the benefit of loving God even today, it was there even before and we will continue to live without wealth and things, but we can never live without God, there is only one way of peace of mind, love of God.
Without loving God, the mind can never be calm, so if the mind is to be pacified, then proceed in the path of Paramarth. Love God and try to search for him. There is a very old saying that if you find God, then why do not we try this, our love will be true, then one day we will definitely get divine and that day our mind will be completely calm. Will go.
Then let us seek our true love from today. So that our mind will be completely calm. And that is the love of the divine.
Love this post of mine today, please like, share and follow . *****************************************
किसको प्यार करने पर मनुष्य का मन शांत हो जाता है?

किसको प्यार करने पर मनुष्य का मन शांत हो जाता है इस दुनिया में सबकी अपनी-अपनी सोच है लेकिन क्या हमारी सोच ठीक है हमारा मन कैसे शांत हो सकता है हम इस दुनिया में प्यार करते हैं दुनिया की चीजों से धन दौलत से जो सब यहीं पर रह जानी हैं क्या इन सब चीजों से प्यार करना ठीक है क्या इन चीजों से हमारा मन शांत हो गया है नहीं .

क्योंकि दुनिया की चीजें और धन दौलत से इंसान की भूख और बढ़ जाती है क्योंकि हमारे मन की आदत है जो चीज हमारे पास है उससे यह कभी खुश नहीं होता और जो चीज हमारे पास नहीं हमेशा उसी की मांग करता है और फिर इन चीजों को हासिल करने के लिए दौड़ने लग जाते हैं . इनको पाने के लिए उससे हमारा मन शांत क्या होना था और ज्यादा अशांत हो जाता है

फिर हम प्यार करते हैं यार दोस्तों से दिन रात उनके साथ घूमते फिरते हैं और मेरा मेरा करते रहते हैं और एक दिन इनसे झगड़ा हो जाता है फिर वह प्यार कहां रह जाता है मन और भी ज्यादा अशांत हो जाता है.

फिर हम मन को शांत करने के लिए शराब और नशे आदि का सहारा लेते हैं उससे हमारा मन शांत हो जाता है नहीं ?

क्योंकि नशे के बाद तो आदमी अपने होश खो देता है शांति कैसे आएगी फिर हम प्यार करते हैं भाई बहनों से मां बाप से बीवी बच्चों से क्या यह प्यार सच है नहीं यह प्यार भी सच नहीं है हमारा परिवार हमारी जिम्मेवारी होता है जिम्मेदारियों से लगाव तो ठीक है लेकिन वह भी प्यार नहीं है .

अगर दुनिया में प्यार करना है तो उससे करो जो हमेशा रहे और वह प्यार सिर्फ और सिर्फ परमात्मा से होता है जिससे हमारा मन बिल्कुल शांत हो जाता है क्योंकि जो चीजें खत्म हो जानी है जिसके जाने से हमारा मन और भी अशांत होना है ऐसी चीजों से प्यार करने का क्या फायदा परमात्मा आज भी है पहले भी था और आगे भी रहेगा हम इंसानों धन दौलत और चीजों के बिना तो रह सकते हैं लेकिन परमात्मा के बिना कभी नहीं रह सकते मन की शांति का सिर्फ एक ही रास्ता है परमात्मा से प्यार.

परमात्मा से प्यार किए बिना मन कभी शांत नहीं हो सकता इसलिए अगर मन को शांत करना है तो परमार्थ के रास्ते में आगे बढ़े . परमात्मा से प्यार करें और उसको तलाश करने की कोशिश करें एक बहुत पुरानी कहावत है ढूंढने से तो परमात्मा भी मिल जाता है फिर हम क्यों नहीं यह कोशिश करें हमारा प्यार सच्चा होगा तो हमें एक दिन परमात्मा जरूर मिलेगा और उस दिन हमारा मन बिल्कुल शांत हो जाएगा.

तो फिर चलो आज से हम अपने सच्चे प्यार की तलाश करें. जिससे हमारा मन बिल्कुल शांत हो जाए. और वह है परमात्मा का प्यार.

आज का मेरा यह पोस्ट अच्छा लगे शेयर लाइक और फॉलो जरूर करें.

धन्यवाद

Originally published at https://www.lifedefinition.online.

--

--

--

"God is not your bank account. He is not your means of provision. He is not the hope of your pay. He is not your life. He's not your god. He's your Father."

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
Spiritual stories

Spiritual stories

"God is not your bank account. He is not your means of provision. He is not the hope of your pay. He is not your life. He's not your god. He's your Father."

More from Medium

Deception Tips Video 95 — Overconfidence

The Beauty of the Breakup Mix: Feeling Worse to Feel Better

Do not cohabitate with your girlfriend. This will keep the mystery alive.

The Ways of a Conversation