मानव आत्मा अर्थ

मानव आत्मा हमारे अस्तित्व का सार है। यह वही है जो हमें अन्य प्राणियों से अद्वितीय बनाता है। मानव आत्मा को जीवन शक्ति के रूप में वर्णित किया जा सकता है जो प्रत्येक व्यक्ति के अंदर होती है। यह हमारा वह हिस्सा है जो शरीर से परे रहता है। यही कारण है कि हमें अक्सर कहा जाता है कि हम एक आत्मा है। इस अवधारणा को परिभाषित करने के कई तरीके हैं लेकिन यहां कुछ सामान्य परिभाषाएं दी गई हैं।

-आत्मा किसी व्यक्ति के स्वभाव का आध्यात्मिक पहलू।
-आत्मा एक गैर-भौतिक ऊर्जा जो भौतिक दुनिया से स्वतंत्र रूप से मौजूद है।
-आत्मा जीवन शक्ति; किसी व्यक्ति की मानसिक, भावनात्मक और शारीरिक विशेषताओं का कुल योग।
-आत्मा एक व्यक्ति का आंतरिक मूल; किसी व्यक्ति का वह भाग जो भौतिक नहीं है।
-आत्मा एक अभौतिक इकाई है जो शरीर को चेतन करती है।
.
मानव आत्मा हमारे अस्तित्व का सार है। यह वही है जो हमें बनाता है कि हम कौन हैं। हम इसके बिना नहीं हो सकते। यह वही है जो हमें जीवित रखती है और हमें जीवन का अनुभव होता है। हम जो कुछ भी करते हैं उसके पीछे यह प्रेरक शक्ति है। इसके बिना, हमारा अस्तित्व समाप्त हो जाएगा। यह लेख मानव आत्मा की वास्तविक परिभाषा और हमारे जीवन में इसके महत्व के बारे में बताता है। आप विभिन्न प्रकार की आत्माओं (शारीरिक, भावनात्मक, मानसिक, आध्यात्मिक) के बारे में जानेंगे और वे हमारे पूरे जीवनकाल में कैसे कार्य करती हैं । आप पाएंगे कि हम सभी एक आत्मा है लेकिन बहुत से लोग नहीं जानते कि यह वास्तव में क्या है।

मानव आत्मा को जीवन शक्ति के रूप में परिभाषित किया गया है जो प्रत्येक व्यक्ति को चेतन करता है। कहा जाता है कि यह मनुष्य के हृदय में निवास करती है और हमारे कार्यों के पीछे प्रेरक शक्ति मानी जाती है। दूसरे शब्दों में, हम वही हैं जो हम सोचते हैं।

मानव आत्मा एक आध्यात्मिक इकाई है जो प्रत्येक व्यक्ति के अंदर निवास करती है। यह ऊर्जा ही हमें बनाती है कि हम कौन हैं। यह हमारी चेतना है, हमारी आत्म-जागरूकता की भावना है। यह हमारा वह हिस्सा है जो सोचता है, महसूस करता है, मानता है, याद करता है, सपने देखता है, आशा करता है, प्यार करता है, नफरत करता है और डरता है। हम कौन हैं इसका सार है।

मानव आत्मा के दो भाग होते हैं: चेतन मन और अवचेतन मन। चेतन मन आत्मा का वह भाग है जो सोच और तर्क कर सकता है। यह वह हिस्सा है जो भाषा का उपयोग करना और विचारों को संप्रेषित करना जानता है। यह तर्क और तर्क के लिए जिम्मेदार हिस्सा है। अवचेतन मन आत्मा का दूसरा आधा भाग है। यह वह हिस्सा है जहां भावनाएं निवास करती हैं। यह वह हिस्सा है जो सहज क्रियाओं को नियंत्रित करता है। यह हमारी यादों और हमारे अंतर्ज्ञान के पीछे का हिस्सा है। अवचेतन मन को समय या स्थान का पता नहीं होता है। यह अच्छे से बुरे का पता नहीं लगाता। यह केवल भावनाओं का जवाब देता है।

मानव आत्मा जन्म से पहले मौजूद है और मृत्यु के बाद भी जारी है। हमारे पास आत्माएं हैं चाहे हम ईश्वर को मानें या न मानें। हमारी आत्माएं शाश्वत हैं। वे हमेशा के लिए रहती हैं। इनका कोई आदि या अंत नहीं है। वे समय और स्थान के बाहर मौजूद हैं।वे अमर हैं।

हमारी आत्मा एक रीढ़ की हड्डी की तरह से हमारे शरीर से जुड़ी होती है। जब हमारा शरीर मर जाता है, तो हमारी आत्मा भौतिक शरीर को छोड़ देती है और परलोक की यात्रा करती है। मृत्यु के बाद, हमारी आत्मा आनंदमय शांति की स्थिति में प्रवेश करती है। इस जगह पर, हमारी आत्मा अपने परम पिता के साथ फिर से मिलाप करती है ।
.
मानव आत्मा अर्थ — मानव आत्मा का क्या अर्थ है?

मानव आत्मा वह जीवन शक्ति है जो प्रत्येक व्यक्ति को चेतन करती है। यह ऊर्जा जन्म से लेकर मृत्यु तक हमारे शरीर में प्रवाहित होती रहती है। कई मायनों में, हम इस ऊर्जा को बिजली के समान मान सकते हैं। यदि आप दो अलग-अलग वस्तुओं को स्पर्श करते हैं, तो उन पर विद्युत आवेश होता है। जब आप पैदा होते हैं, तो आपके शरीर पर कोई चार्ज नहीं होता है। जैसे-जैसे आप जीवन से गुजरते हैं, आप एक कार्यभार ग्रहण करते हैं। आप चार्ज देना शुरू करते हैं। आखिरकार, जब आप मरते हैं, तो आपका शरीर अपना चार्ज खो देता है। तुम्हारी आत्मा भी यही भार वहन करती है।

मानव आत्मा अर्थ — लोग भगवान में विश्वास क्यों करते हैं?
लोग भगवान में विश्वास करते हैं क्योंकि वे अपने से बड़ी किसी चीज से जुड़ाव महसूस करना चाहते हैं। वे यह महसूस करना चाहते हैं कि उनका जीवन मायने रखता है। वे जानना चाहते हैं कि कोई उनकी देखभाल कर रहा है। लोगों को खुद से बड़ी किसी चीज पर विश्वास करने की जरूरत है। कुछ ऐसा जो अपने अस्तित्व का बोध कराता है। धर्म हमें यही देता है।

मानव आत्मा का अर्थ — मैं अपनी आत्मा को कैसे ढूंढ सकता हूं?

मानव आत्मा को आप अपने बल बुद्धि से तो नहीं ढूंढ सकते लेकिन आध्यात्मिक दृष्टि से आप इसकी जरूर पहचान कर सकते हैं। हम लोग अपने आप को एक शरीर ही समझते हैं लेकिन हमारी पहचान शरीर नहीं है, हमारी पहचान एक आत्मा के रूप में हैं। अगर आप अपनी आत्मा को ढूंढना चाहते हैं तो उसके लिए आपको एक अध्यात्मिक गुरु की जरूरत जरूर पड़ेगी जो आपको यह सिखाएगा की आत्मा की पहचान कैसे करने हैं बिना किसी अध्यात्मिक गुरु के हम कभी भी आत्मा को नहीं ढूंढ सकते

मानव आत्मा को हमारे अस्तित्व के अंतरतम केंद्र के रूप में वर्णित किया गया है, हम कौन हैं इसका सार। यह हम में से एक हिस्सा है जो हमें अन्य प्राणियों से अद्वितीय बनाता है। यह वही है जो हमें हमारी चेतना, आत्म-जागरूकता और व्यक्तित्व देता है। यह वह हिस्सा है जो हमें निर्णय लेने और कार्रवाई करने के लिए प्रेरित करता है। यह हमारी भावनाओं और भावनाओं के लिए जिम्मेदार हिस्सा है। यह वह हिस्सा है जो हमें जीवन का अनुभव करने और दूसरों से जुड़ने की अनुमति देता है।

दोस्तों मेरा यह लेख अगर आपको अच्छा लगा हो तो कृपया लाइक और शेयर जरूर कीजिए, आप अपनी प्रतिक्रिया मुझे कमेंट करके भी बता सकते हैं

धन्यवाद

Originally published at https://www.spiritualstories.online.

--

--

--

"God is not your bank account. He is not your means of provision. He is not the hope of your pay. He is not your life. He's not your god. He's your Father."

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
Spiritual stories

Spiritual stories

"God is not your bank account. He is not your means of provision. He is not the hope of your pay. He is not your life. He's not your god. He's your Father."

More from Medium

Exclusive Interview — Director Andre Relis on Randy Rhoads: Reflections of a Guitar Icon

HOW TO BECOME A TV REPORTER

How To Move Forward When You Feel Stuck

Don’t Lose That Gleam