परमात्मा को कैसे प्राप्त करें

Spiritual stories
4 min readOct 29, 2021
https://www.spiritualstories.in/2021/10/blog-post.html

परमात्मा को कैसे प्राप्त करें, हम लोग परमात्मा की प्राप्ति के लिए बहुत जगह जाते हैं लेकिन फिर भी हमें परमात्मा नहीं मिलता | तो फिर हमें परमात्मा कहां मिलेगा और परमात्मा से मिलने का तरीका क्या है | इस बात को हमें कहानी के जरिए समझने की कोशिश करते हैं |

एक बार एक महात्मा जी एक गांव में से गुजर रहे थे । गांव वालों ने महात्मा जी को सादर रोक कर एक सवाल पूछा । सवाल यह था कि परमात्मा के राज्य में कौनसे लोग प्रवेश पा सकेंगे ? महात्मा जी ने तुरंत एक छोटे बच्चे को उठाया और कहा, “जिनके हृदय इस बच्चे की भांति होंगे, वही परमात्मा के राज्य में प्रवेश कर सकेंगे” ।
संत महापुरुषों के अनुसार, ज्यों ज्यों हमारे भीतर अहंकार पैर जमाने लगता है; त्यों त्यों ही हमारा बचपन वाला कोमल, निर्मल और निश्चल हृदय कठोर होने लगता है । हमें लगने लगता है कि मैं कुछ हो गया हूं । धनी घर में पैदा हो कर सोचते हैं कि मैं धनी हूं । बड़े पद वाले घर में पैदा होकर सोचते हैं कि मैं तो कुछ खास हूं । ज्यादा शिक्षा पाकर हम सोचते हैं कि मैं सबसे विशिष्ट हो गया । बाकी बातें छोड़िए आप, व्यक्ति अच्छे कपड़े पहन कर ही अपनी चाल का चलन बदल लेता है । उपलब्धियां हासिल करके हम सोचते हैं कि मैं कुछ हूं ।
ऐसा सोच सोच कर ही हमारे हृदय कठोर होते चले जाते हैं । जबकि ध्यान पूर्वक सोचने वाली तो बात ही कुछ और है । सोचना तो यह है कि वास्तव में मनुष्य की शक्ति क्या है व समर्था क्या है ? हमें पता तो इतना भी नहीं कि हम पैदा क्यों हुए हैं ? हमें यह भी पता नहीं कि हम मरेंगे किस लिए ? यह भी पता नहीं हमे कि जो श्वास बाहर गई है, वह भीतर आएगी भी या नहीं ?
अगर अपनी एक श्वास पर भी हमारा कोई वश नहीं है तो फिर कैसा मैं कुछ हूं ? कुछ भी तो नहीं हूं मैं जैसे एक सूखा पता हवा में उड़ता जाए, ठीक वैसी ही स्थिति हमारी है । लेकिन महात्मा हमें सचेत कर रहे हैं कि तुम वास्तव में बहुत कुछ हो । तुम परमपिता परमात्मा का अंश हो । तुम प्रेम, मैत्री, समर्पण, सहयोग से ओत प्रोत जीवात्मा हो । तुम कभी अपने वास्तव को पहचान कर तो देखो !
हम 24 घंटे बाहर देखते हैं । जब स्वयं को देखने का मौका आता है, तब हम सो जाते हैं । भीतर देखना हो ही नहीं पाता । हमें बस दो ही काम हैं; या तो बेकार देखते हैं या फिर देखते ही नहीं । क्योंकि दिन में बाहर देख कर रात में सो जाते हैं । स्वपन देखना भी बाहर देखना ही होता है । क्योंकि हमारे सपनों में भी बाहर की दुनिया ही होती है ।
महात्मा फरमाते हैं कि 24 घंटे में एक बार ही थोड़ी देर होशपूर्वक आंख बंद करके भीतर देखें । सिर्फ देखने की कोशिश में आंख को बंद करें । अंधेरा दिखे तो अंधेरे को ही देखो । कोई स्वपन दिखाई पड़े तो उसे देखो । भीतर जो भी होता हो, इंद्रियों को बंद करके उसे ध्यान पूर्वक देखने का प्रयास करो ।
पहले आंख से शुरु करें, क्योंकि यही आप की महत्वपूर्ण इंद्री है । फिर अपने भीतर में जो भी सुनाई पड़े, उसे सुनने की कोशिश करें । फिर ध्यान मग्न होकर सूंघने की कोशिश भी करें । आपकी इंद्रियां जो जो भी बाहर करती हैं, वही अपने भीतर करने की कोशिश करें । ऐसा करने पर तुम दंग ही रह जाओगे , क्योंकि भीतर तुम्हारे चमत्कार हो उठेगा ।
पहले तुम पाओगे कि कुछ तो है । फिर तुम पाओगे कि बहुत कुछ है यहां तो । क्योंकि भीतर के अपने ही नाद हैं और अपनी ही ध्वनियां हैं । भीतर के अपने ही रंग हैं, अपने ही स्वाद और सुगंध है । जिस दिन आपको भीतर के रंग दिखाई पड़ने लगेंगे, उस दिन बाहर की दुनिया के सब रंग फीके पड़ जाएंगे । फिर तुम्हारी बाहर जाने की इच्छा बंद होने लगेगी !
तब संतोष और तृप्ति का भंडार मिलना भी शुरू हो जाएगा । फिर बाहर के सब संगीत तुम्हें शोरगुल मालूम पड़ने लगेंगे । भीतर की सुगंध का पता चलते ही बाजारों के सारे परफ्यूम बेकार हो जाएंगे । जिस दिन भीतर के सौंदर्य का बोध होगा, उस दिन बाहर भी सौंदर्य ही सौंदर्य हो जाएगा । फिर हर व्यक्ति तुम्हें अतिसुंदर नजर आने लगेगा।
इसके लिए आपको महात्माओं की आज्ञानुसार सुमिरन ध्यान में उतरना होगा !

तो चलो दोस्तों हम भी अगर परमात्मा को प्राप्त करना चाहते हैं तो अपने अंदर उसको प्रेम प्यार से ढूंढने की कोशिश करते हैं | अगर हम परमात्मा को प्रेम प्यार से अपने अंदर ढूंढने की कोशिश करेंगे हमें जरूर मिलेगा |

अगर ये लेख आपको अच्छा लगे तो हर व्यक्ति तक
जरुर भेजे।*

*आप अपनी प्रतिक्रिया कॉमेंट में जरूर दे,और फॉलो भी जरूर करें |

धन्यवाद.

Originally published at https://www.spiritualstories.in.

--

--

Spiritual stories

"God is not your bank account. He is not your means of provision. He is not the hope of your pay. He is not your life. He's not your god. He's your Father."